हिन्दी दिवस सप्ताह और पखवाड़ा-हिन्दी चिंत्तन लेख


            14 सितम्बर हिन्दी दिवस के बाद सरकारी विभागों में हिन्दी पखवाड़ा और हिन्दी सप्ताह प्रारंभ हो जाता है।  यह अलग बात है उस दौरान औपचारिक कार्यक्रम समाचारों में हिन्दी दिवस की अपेक्षा अधिक स्थान नहीं पाते। इस दौरान वाद विवाद प्रतियोगिताओं, सम्मेलनों और सम्मान कार्यक्रमों में वही पुरानी बात दोहराई जाती हैं।  अगर हम हिन्दी के व्यवसायिक बाज़ार को देखें तो उसके पास एक बहुत विशाल जनसमूह है।  वह अपने लिये कमाई के लिये हर क्षेत्र में अपने हिसाब से भाषाई विकास के लिये रणनीति बना सकता है पर उसमें आत्मविश्वास की कमी है।  टीवी चैनल के समाचार, धारावाहिक, फिल्म की पटकथायें और समाचार पत्र पत्रिकाओं की विषय सामग्री में प्रबंधकों की भाषा के प्रति कुंठा ही नहीं वरन् उससे जड़ आमजन समूह के प्रति भारी अविश्वास दिखाई देता है।  यह अविश्वास और विचार हीनता आमजन समूह की मूढ़ता की वजह से नहीं वरन् प्रबंधकों और कार्यकर्ताओं में अपने ही उनके अंदर अपने कर्म से प्रतिबद्धता के अभाव  से ही उपजी होती है।

            हिन्दी पर वही पेशेवर विद्वान इन बहसों में भाग लेने आते हैं जिन्होंने हिंग्लििश या हिंग्रेजी के सहारे प्रतिष्ठा के आकाश को छुआ होता है और उनकी रचनायें मनोंरजन या कथित रूप से सामाजिक चेतना के विषय से जुड़ी होती है। प्रगतिशील, जनवादी तथा अन्य विचाराधाराओं के विद्वानों ने प्रचार जगत तथा उसके संगठनों पर अधिकार कर रखा है इसलिये मौलिक, स्वतंत्र तथा जातीय, धार्मिक, राजनीतिक तथा कला के समूहें से पृथक लेखकों के लिये कहीं कोई स्थान नहीं है।  अब अंतर्जाल ने यह सुविधा दी है तो उसे सामाजिक माध्यम कहकर सीमित किया जा रहा है।  पूंजी, प्रतिष्ठा और प्रचार के शिखर संगठनों के महापुरुष निरंतर यह संदेश देते हैं कि यह सामाजिक प्रचार माध्यम भी उनकी कृपा से ही चल रहा है।  प्रचार माध्यम शिखर पुरुषों के ब्लॉग, ट्विटर और फेसबुक की चर्चा कर आमजन को यह संदेश तो देते हैं कि वह सामाजिक माध्यम को महत्व प्रदान कर रहे हैं पर साथ ही यह भी बता देते हैं कि हर विचारक की औकात उसकी भौतिक शक्ति के अनुसार ही आंकी जायेगी।

            हम जैसे सात वर्ष से अंतर्जाल पर सक्रिय हिन्दी लेखक अगर स्वांत सुखाय न हों तो लिखना ही बंद कर दें। हमारा स्तर अभी तक एक अंतर्जाल प्रयोक्ता से आगे नहीं बढ़ पाया।  दो तीन वर्ष तक हमें निराशा लगी पर जब हमने अध्ययन किया तो पता लगा कि भाषा, जाति, धर्म, अर्थ और समाज सेवा में कामनाओं के साथ राजसी प्रवृत्ति के पुरुषों से अपेक्षा करना व्यर्थ है क्योंकि उनके लक्ष्य कभी पूरे नहीं होते इसलिये हमें प्रतिष्ठित करने का समय उन्हें मिल ही नहीं सकता।  हमने हिन्दी भाषा में अंग्रेजी शब्दों के मिश्रण के प्रतिकूल एक लेख यहां लिखा था।  उस पर ढेर सारी प्रतिक्रिंयायें आयीं। उनमें विरोध तथा समर्थन दोनों ही शामिल था।  इस तरह के मिश्रण के अभियान प्रारंभ होने की जानकारी हमें अंतर्जाल पर ही मिली थी तब ऐसा लगा कि शायद यह एक भ्रम हो पर जल्द ही वह सच सामने आने लगा।  भाषाई रणनीतिकार हिन्दी को रोजगारोन्मुख बनाने के लिये उस राह पर चल पड़े थे जिसकी कल्पना करना हमारे लिये कठिन था।  कहने को यह भाषा के साथ उनकी प्रतिबद्धता थी पर सच उनकी अपनी रचनाओं के सहारे प्रतिष्ठा बनाये रखने के विश्वास का अभाव का प्रमाण था।

            विचारधाराओं से जुड़े ऐसे आकाशीय विद्वान अपनी बात जनमानस में कहने के लिये उतावले रहते हैं। उन्हें अपनी रचना पर तत्काल प्रतिक्रिया चाहिये क्योंकि उससे ही उनकी भौतिक उपलब्धि होती है।  समाज के पढ़े लिखे तबके से ही उनके सरोकार रह गये हैं। उन्हें अल्पशिक्षित, मनोरंजन प्रिय तथा  अध्यात्मिक वृत्ति के लोगों पर प्रभाव डालने का प्रयास करने की आवश्यकता नहीं होती क्योंकि वह उनके प्रतिबद्ध पाठकों से ही संदेश ग्रहण करता है। इसलिये उन्होंने अपने इसी संदेशवाहक तबको संबोधित करते रहने के लिये शब्द योजना बनाई।        हमारे यहां विचाराधाराओं से जुड़े अधिकतर लोग अध्यात्म विषय पर लिखना बेगार मानते हैं क्योंकि यह काम तो उन्होंने पेशेवर धार्मिक विद्वानों की सौंप दिया है।  यही कारण है कि आधुनिक हिन्दी लेखक भारतीय जनमानस की अध्यात्मिक सोच से परे होकर अपनी रचना करते हैं। भारतीय जनमानस में अध्यात्मिक दर्शन कूट कूट कर भरा है इसलिये वह इन लेखकों की रचनाओं को एक सीमा तक ही स्वीकार करता है।  अगर वह मनोरंजक हुई्रं तो लोकप्रियता पाती हैं पर लेखक की छवि कभी अध्यात्मिक नहीं बनती। यही कारण है कि अनेक हिन्दी भाषी लेखक प्रचार के शिखर पर दिखते हैं पर भारतीय जनमानस में उनके लिये वैसा स्थान नहीं है जैसा कि पुराने कवियों और लेखकों का रहा है।

            ऐसे ही लेखक अपनी श्रेष्ठता अपनी भौतिक उपलब्धियों के आधार पर प्रमाणित करने हिन्दी दिवस, हिन्दी सप्ताह या हिन्दी पखवाड़ा केे मंचों का उपयोग करने को लालायित रहते हैं।  यह बुरा नहीं है पर हिन्दी भाषा पर नियंत्रण करने का भाव उनकी आत्ममुग्धता को ही दर्शाती है। जहां तक भाषा का प्रश्न है वह समाज की विचार धारा तय करती है। हमारी मान्यता है कि शुद्ध हिन्दी का उपयोग ही हमारी रचनाओं की शक्ति है। व्यवसायिक क्षेत्र कभी हिन्दी का मार्ग तय नहीं कर सकता। जो लोग यह सोच रहे हैं कि वह हिन्दी के भाग्यविधाता हैं उन्हें यह भ्रम नहीं रखना चाहिये कि समाज उनकी हिन्दी को मान रहा है।

——————————————

लेखक एवं कवि-दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप 

ग्वालियर मध्य प्रदेश

Writer and poet-Deepak Raj Kukreja “Bharatdeep”
Gwalior Madhyapradesh

वि, लेखक एवं संपादक-दीपक भारतदीप, ग्वालियर

poet,writer and editor-Deepak Bharatdeep, Gwaliro

http://rajlekh-patrika.blogspot.com

यह आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप का चिंतन’पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग

3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका

4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका

 5.दीपक बापू कहिन
6.हिन्दी पत्रिका 
७.ईपत्रिका 
८.जागरण पत्रिका 

 

Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: