Tag Archives: hindi aritcle

अंतर्जाल पर हिंदी का वैश्विक काल-आलेख


अंतर्जाल पर हिंदी अब ‘वैश्विक काल’ में प्रवेश कर चुकी है। अभी तक हिंदी का आधुनिक काल चल रहा था पर ‘वैश्विक काल‘ में हिंदी की रचनाओं के स्वरूप की कल्पना करना अभी सहज नहीं लगता पर इतना जरूर है कि वह वैसा नहीं होगा जैसा कि अब तक था। अभी अनेक ब्लाग लेखक ऐसी बहसों में उलझ जाते हैं जिसमें उनको अपनी पहचान ही याद नहीं रहती। लेखक ब्लागर और ब्लाग लेखक के बीच का अंतर सभी ने समझ लिया है पर हिंदी के वैश्विक काल में उसका कोई महत्व नहीं रहने वाला है।
सवाल यह है कि कौन लोग इस वैश्विक काल में हिंदी का ध्वज वाहक होंगे? यकीनन वही लोग जिनका लिखने के प्रति समर्पण होगा मगर यहां नये लेखकों को लाना आसान काम नहीं है खासतौर से जब आर्थिक लाभ न हो। यह मामला भी चल जाये पर जब शाब्दिक या तकनीकी ज्ञान का प्रचार पर्याप्त न हो तब यह काम और कठिन लगता है।
वह नौजवान इंजीनियर मेरा कंप्यूटर ठीक करने आया था। दरअसल मेरा कंप्यूटर मेरी गल्तियों के कारण खराब हुआ। पड़ौस का एक लड़का उसे अनावश्यक रूप से फारमेट कर दे गया। उसके बाद मैंने कंप्यूटर बेचने वाले साफ्टवेयर इंजीनियर को बुलाया तो उसने सारे प्रोग्राम लोड कर दिये पर वह उस कमी को दूर नहीं कर सका और हार्डवेयर इंजीनियर को लाने का वादा कर चला गया। उसके जाने के बाद कंप्यूटर की वह कमी तो दूर हो गयी जिसकी वजह से परेशान होकर मैंने उसे स्वयं ही खराब कर दिया था पर आशंका बनी हुई थी। वह साफ्टवेयर इंजीनियर उस 16 साल के लड़के को ले आया। उसने कुछ टांके लगाये ओर मुझे लगा कि वह दिखाने के लिये अधिक समय ले रहा है क्योंकि उस लाने वाले लड़के का शायद यही उसे निर्देश था। उन्होंने काम खत्म कर मुझसे सात सौ रुपये मांगे पर मैंने पांच सौ दिये। वह रकम भी मुझे अधिक लगी।
काम खत्म होने के बाद उस 16 वर्षीय इंजीनियर लड़के ने मुझसे पूछा कि ‘आखिर आप इस कंप्यूटर का उपयोग क्या करते हैं?’
मैंने कहा-‘कुछ नहीं? एैसी फिल्में देखता हूं जो कहीं देखने को नहीं मिलती!’
साफ्टवेयर इंजीनियर ने जो उस समय दलाल की भूमिका में था बोला-‘अंकल मजाक कर रहे हैं यह अपना ब्लाग लिखते हैं।’
वह लड़का बोला-‘सर, आपका ब्लाग कौनसा है?’
मैंने उससे कहा-‘कभी इंटरनेट पर हिंदी में लिखी सामग्री पढ़ी है तो बताऊं।
उसने कहा-‘हां, मैं वेब दुनिया में पढ़ता हूं। जब मुझे हिंदी में पढ़ने में होता है तो वहीं जाता हूं। इस समय हिंदी में पढ़ने वाले लोग उसका ही उपयोग अधिक कर रहे हैं।
तब मेरे समझ में आया कि वर्डप्रेस के ब्लाग पर इतने हिट कहां से आ रहे हैं? मैंने मैंने उससे मजाक में कहहा-‘क्या तुम जानते हो कि तुम विश्व प्रसिद्ध हिंदी लेखक ब्लागर का कंप्यूटर ठीक करने आये हो?’
उसने पूछा-‘आप किस नाम से लिखते हो?’
मैंने उसे अपना नाम बताया और पूछा कि क्या कभी यह नाम उसके सामने आया है?
वह सोच में पड़े गया और बोला-‘मुझे याद नहीं आ रहा है। वैसे मैंने कई लोगों को पढ़ा है पर नाम पर कभी ध्यान नहीं दिया!’
मैंने उससे कहा-‘तुम कंप्यूटर पर हिंदी में ब्लाग लिख सकते हो?’
उसने मना करते हुए कहा-‘पर वहां हिंदी में कैसे लिखा जा सकता है।’
मैंने उसे इंडिक टूल खोलकर उस पर अपना नाम लिखने को कहा। उसने अंग्रेजी में टाईप कर जैसे ही स्पेस दबाया वह हिंदी में हो गया। उसके मूंह से निकल गया‘वाह’।
वह बोला-‘सर, मुझे पेन दीजिये मैं इस वेबसाईट को नोट करूंगा।’
मैंने उसे पेन देते हुए कहा-‘अगर तुम जीमेल पर काम करोगे तो वहां भी अब हिंदी लिखने की सुविधा है जो मुझे कल ही मिली है।’
उसने कहा-‘मैं अब जाकर जीमेल पर अपना खाता बनाऊंगा। अभी तक याहू पर ही काम चला रहा था।’
साफ्टवेयर इंजीनियर बहुत समय से कंप्यूटर लाईन में है पर वह भी हिंदी लिखने के टूल से अनभिज्ञ था। कहने का तात्पर्य यह है कि हिंदी में इंटरनेट कनेक्शन बहुत हैं पर लोगों को यह पता नहीं कि उसका हिंदी उपयोग कैसे हो सकता है। देखा यह गया है कि हिंदी के ब्लाग लेखक ही जीमेल का अधिक उपयोग करते हैं क्योंकि उसने ही हिंदी के टूल लिखने की सुविधा उपयोगार्थ प्रस्तुत की है जबकि याहू का इस मामले में कोई भूमिका नहीं है। यह आश्चर्य की बात है कि मेरे आसपास के जिन लोगों ने इंटरनेट कनेक्शन लिये उन्होंने अपने ईमेल याहू पर ही बनाये। याहू के मामले में लोगों को पता नहीं क्यों उसके स्वदेशी होने का भ्रम है। बहुत पहले यह बात उड़ाई गयी थी कि यह एक भारतीय अभिनेता के स्वामित्व में है।
इस धीमी प्रगति के बावजूद अंतर्जाल पर हिंदी का वैश्विक काल उज्जवल रहने वाला है। जैसे जैसे हिंदी में लिखने के टूल का प्रचार होता जायेगा वैसे ही ढेर सारे लेखक यहां आयेंगे। हालांकि अभी जो हिंदी में लिख रहे हैं वह अपने को भाग्यशाली मानते हैं पर कुछ समय बाद यह प्रसन्नता समाप्त हो जायेगी। मैं अपने से मिलने वाले इंटरनेट कनैक्शनधारी लोगों को जब हिंदी के बारे में बताता हूं तो वह यकीन नहीं करते कि हिंदी में वहां लिखा जा रहा है।
जाते समय उस लड़के ने पूछा-‘सर, आपकी वेबसाईट का नाम क्या है?’
मैंने उससे कहा-‘तुम तो वेबदुनियां पर पढ़ो। जहां तुम्हें अपनी पसंद की सामग्री दिखे उसे पढ़ो और दोस्तों को भी पढ़ाओ।’
उसने फिर पूछा-‘आपके ब्लाग का नाम क्या है?’
मैंने उसस कहा-‘तुम तो ब्लागवाणी, नारद, चिट्ठाजगत और हिंदी ब्लाग पर जाओ और जो भी अच्छा लगे पढ़ो। केवल मेरा लिखा तुम पढ़ो और कहीं निराश हुए तो तुम्हारा मन टूट सकता है। हां, पढ़ते पढ़ते कहीं मेरा नाम जरूर आ जायेगा।’
उसने जाते जाते यही कहा-‘आपने यह मुझे बहुत बढ़िया टूल बताया। अब मैं वेबदुनियां पर सर्च कर अधिक पढ़ा करूंगा।’
शायद वह टूल उसके लिये बहुत उपयोगी होता अगर वह ब्लाग लिखता पर जीमेल पर ही उसके उपलब्ध होने के बाद उसके लिये इस इंडिक टूल की क्या उपयोगिता हो सकती है-मैं सोच रहा था।
बहरहाल उसकी बातों से हिंदी के वैश्विक काल में प्रवेश होने के संकेत समझे जा सकते थे ओर यकीनन अंतर्जाल से पूर्व के अनेक विचार, शैलियां और रुचियां परिवर्तित होंगी और उससे हिंदी के साहित्य का स्वरूप भी नहीं बच सकेगा। याद रखन वाली बात यह है कि अंतर्जाल पर उसी लेखक को सफलता मिलेगी जो संक्षिप्त रूप से अपनी बात कहेगा। वह इतनी भी संक्षिप्त भी ं न हो कि चार लाईनें अनावश्यक रूप से थोप दीं और समझा लिया कि हो गये लेखक या कवि। सार्थक, विचारप्रद और शिक्षाप्रद रचनाओं की अपेक्षा तो पाठक करेगा पर वह इतनी लंबी न हों कि वह अपनी आंखों इतना कष्ट दे कि उसकी चिंतन क्षमता प्रभावित हो।
……………………….

यह आलेख मूल रूप से इस ब्लाग ‘अनंत शब्दयोग’पर लिखा गया है । इसके अन्य कहीं प्रकाशन के लिये अनुमति नहीं हैं। इस लेखक के अन्य ब्लाग।
1.दीपक भारतदीप का चिंतन
2.दीपक भारतदीप की हिंदी-पत्रिका
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
4.दीपक भारतदीप शब्दज्ञान-पत्रिका