Tag Archives: kapda

धूल ने क्लर्क को सिखाया-हिंदी शायरी


बहुत दिन बाद ऑफिस में

आये कर्मचारी ने पुराना

कपडा उठाया और

टेबल-कुर्सी और अलमारी पर

धूल हटाने के लिए बरसाया

धूल को भी ग़ुस्सा आया

और वह उसकी आंखों में घुस गयी

क्लर्क चिल्लाया तो धूल ने कहा

‘धूल ने कहा हर जगह प्रेम से

कपडा फिराते हुए मुझे हटाओ

मैं खुद जमीन पर आ जाऊंगी

मुझे इंसानों जैसा मत समझो

कि हर अनाचार झेल जाऊंगी

इस तरह हमले का मैंने हमेशा

प्रतिकार किया है

बडों-बडों के दांत खट्टे किये हैं

जब भी कोई मेरे सामने आया ‘
—————

यह आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप की अभिव्यक्ति पत्रिका’पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
लेखक के अन्य ब्लाग/पत्रिकाएं भी हैं। वह अवश्य पढ़ें।
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान-पत्रिका
4.अनंत शब्दयोग
लेखक संपादक-दीपक भारतदीप