साहित्य आखिर होता क्या है-आलेख (article on hindi sahitya)


हिंदी की विकास यात्रा नहीं रुकेगी। लिखने वालों का लिखा बना रहेगा भले ही वह मिट जायें। पिछले दिनों कुछ दिलचस्प चर्चायें सामने आयीं। हिंदी के एक लेखक महोदय प्रकाशकों से बहुत नाखुश थे पर फिर भी उन्हें ब्लाग में हिंदी का भविष्य नहीं दिखाई दिया। अंतर्जाल लेखकों को अभी भी शायद इस देश के सामान्य लेखकों और प्रकाशकों की मानसिकता का अहसास नहीं है यही कारण है कि वह अपनी स्वयं का लेखकीय स्वाभिमान भूलकर उन लेखकों के वक्तव्यों का विरोध करते हुए भी उनके जाल में फंस जाते हैं।
एक प्रश्न अक्सर उठता है कि क्या ब्लाग पर लिखा गया साहित्य है? जवाब तो कोई नहीं देता बल्कि उलझ कर सभी ऐसे मानसिक अंतद्वंद्व में फंस जाते हैं जहां केवल कुंठा पैदा होती है। हमारे सामने इस प्रश्न का उत्तर एक प्रति प्रश्न ही है कि ‘ब्लाग पर लिखा गया आखिर साहित्य क्यों नहीं है?’

जिनको लगता है कि ब्लाग पर लिखा गया साहित्य नहीं है उनको इस प्रश्न का उत्तर ही ढूंढना चाहिए। पहले गैरअंतर्जाल लेखकों की चर्चा कर लें। वह आज भी प्रकाशकों का मूंह जोहते हैं। उसी को लेकर शिकायत करते हैं। उनकी शिकायतें अनंतकाल तक चलने वाली है और अगर आज के समय में आप अपने लेखकीय कर्म की स्वतंत्र और मौलिक अभिव्यक्ति चाहते हैं तो अंतर्जाल पर लिखने के अलावा कोई चारा नहीं है। वरना लिफाफे लिख लिखकर भेजते रहिये। एकाध कभी छप गयी तो फिर उसे दिखा दिखाकर अपना प्रचार करिये वरना तो झेलते रहिये दर्द अपने लेखक होने का।
उस लेखक ने कहा-‘ब्लाग से कोई आशा नहीं है। वहां पढ़ते ही कितने लोग हैं?
वह स्वयं एक व्यवसायिक संस्थान में काम करते हैं। उन्होंने इतनी कवितायें लिखी हैं कि उनको साक्षात्कार के समय सुनाने के लिये एक भी याद नहीं आयी-इस पाठ का लेखक भी इसी तरह का ही है। अगर वह लेखक सामने होते तो उनसे पूछते कि ‘आप पढ़े तो गये पर याद आपको कितने लोग करते हैं?’
अगर ब्लाग की बात करें तो पहले इस बात को समझ लें कि हम कंप्यूटर पर काम कर रहे हैं उसका नामकरण केल्कूलेटर, रजिस्टर, टेबल, पेन अल्मारी और मशीन के शब्दों को जोड़कर किया गया है। मतलब यह है कि इसमें वह सब चीजें शामिल हैं जिनका हम लिखते समय उपयोग करते हैं। अंतर इतना हो सकता है कि अधिकतर लेखक हाथ से स्वयं लिखते हैं पर टंकित अन्य व्यक्ति करता है और वह उनके लिये एक टंकक भर होता है। कुछ लेखक ऐसे भी हैं जो स्वयं टाईप करते हैं और उनके लिये यह अंतर्जाल एक बहुत बड़ा अवसर लाया है। स्थापित लेखकों में संभवतः अनेक टाईप करना जानते हैं पर उनके लिये स्वयं यह काम करना छोटेपन का प्रतीक है। यही कारण है अंतर्जाल लेखक उनके लिये एक तुच्छ जीव हैं।
इस पाठ का लेखक कोई प्रसिद्ध लेखक नहीं है पर इसका उसे अफसोस नहीं है। दरअसल इसके अनेक कारण है। अधिकतर बड़े पत्र पत्रिकाओं के कार्यालय बड़े शहरों में है और उनके लिये छोटे शहरों में पाठक होते हैं लेखक नहीं। फिर डाक से भेजी गयी सामग्री का पता ही नहीं लगता कि पहुंची कि नहीं। दूसरी बात यह है अंतर्जाल पर काम करना अभी स्थापित लोगों के लिये तुच्छ काम है और बड़े अखबारों को सामगं्री ईमेल से भी भेजी जाये तो उनको संपादकगण स्वयं देखते हों इसकी संभावना कम ही लगती है। ऐसे में उनको वह सामग्री मिलती भी है कि नहीं या फिर वह समझते हैं कि अंतर्जाल पर भेजकर लेखक अपना बड़प्पन दिखा रहा इसलिये उसको भाव मत दो। एक मजेदार चीज है कि अधिकतर बड़े अखबारों के ईमेल के पते भी नहीं छापते जहां उनको सामग्री भेजी जा सके। यह शिकायत नहीं है। हरेक की अपनी सीमाऐं होती हैं पर छोटे लेखकों के लिये प्रकाशन की सीमायें तो अधिक संकुचित हैं और ऐसे में उसके लिये अंतर्जाल पर ही एक संभावना बनती है।
इससे भी हटकर एक बात दूसरी है कि अंतर्जाल पर वैसी रचनायें नहीं चल सकती जैसे कि प्रकाशन में होती हैं। यहां संक्षिप्तीकरण होना चाहिये। मुख्य बात यह है कि हम अपनी लिखें। जहां तक हिट या फ्लाप होने का सवाल है तो यहां एक छोटी कहानी और कविता भी आपको अमरत्व दिला सकती है। हर कविता या कहानी तो किसी भी लेखक की भी हिट नहीं होती। बड़े बड़े लेखक भी हमेशा ऐसा नहीं कर पाते।
एक लेखिका ने एक लेखक से कहा-‘आपको कोई संपादक जानता हो तो कृपया उससे मेरी रचनायें प्रकाशित करने का आग्रह करें।’
उस लेखक ने कहा-‘पहले एक संपादक को जानता था पर पता नहीं वह कहां चला गया है। आप तो रचनायें भेज दीजिये।’
उस लेखिका ने कहा कि -‘ऐसे तो बहुत सारी रचनायें भेजती हूं। एक छपी पर उसके बाद कोई स्थान हीं नहीं मिला।‘
उस लेखक ने कहा-‘तो अंतर्जाल पर लिखिये।’
लेखिका ने कहा-‘वहां कौन पढ़ता है? वहां मजा नहीं आयेगा।
लेखक ने पूछा-‘आपको टाईप करना आता है।’
लेखिका ने नकारात्मक जवाब दिया तो लेखक ने कहा-‘जब आपको टाईप ही नहीं करना आता तो फिर अंतर्जाल पर लिखने की बात आप सोच भी कैसे सकती हैं?’
लेखिका ने कहा-‘वह तो किसी से टाईप करवा लूंगी पर वहां मजा नहीं आयेगा। वहां कितने लोग मुझे जान पायेंगे।’
लेखन के सहारे अपनी पहचान शीघ्र नहीं ढूंढी जा सकती। आप अगर शहर के अखबार में निरंतर छप भी रहे हैं तो इस बात का दावा नहीं कर सकते कि सभी लोग आपको जानते हैं। ऐसे में अंतर्जाल पर जैसा स्वतंत्र और मौलिक लेखन बेहतर ढंग से किया जा सकता है और उसका सही मतलब वही लेखक जानते हैं जो सामान्य प्रकाशन में भी लिखते रहे हैं।
सच बात तो यह है कि ब्लाग लिखने के लिये तकनीकी ज्ञान का होना आवश्यक है और स्थापित लेखक इससे बचने के लिये ऐसे ही बयान देते हैं। वैसे जिस तरह अंतर्जाल पर लेखक आ रहे हैं उससे पुराने लेखकों की नींद हराम भी है। वजह यह है कि अभी तक प्रकाशन की बाध्यताओं के आगे घुटने टेक चुके लेखकों के लिये अब यह संभव नहीं है कि वह लीक से हटकर लिखें।
इधर अंतर्जाल पर कुछ लेखकों ने इस बात का आभास तो दे ही दिया है कि वह आगे गजब का लिखने वाले हैं। सम सामयिक विषयों पर अनेक लेखकों ने ऐसे विचार व्यक्त किये जो सामान्य प्रकाशनों में स्थान पा ही नहीं सकते। भले ही अनेक प्रतिष्ठत ब्लाग लेखक यहां हो रही बहसें निरर्थक समझते हों पर यह लेखक नहीं मानता। मुख्य बात यह है कि ब्लाग लेखक आपस में बहस कर सकते हैं और आम लेखक इससे बिदकता है। जिसे लोग झगड़ा कह रहे हैं वह संवाद की आक्रामक अभिव्यक्ति है जिससे हिंदी लेखक अभी तक नहीं समझ पाये। हां, जब व्यक्तिगत रूप से आक्षेप करते हुए नाम लेकर पाठ लिखे जाते हैं तब निराशा हो जाती है। यही एक कमी है जिससे अंतर्जाल लेखकों को बचना चाहिये। वह इस बात पर यकीन करें कि उनका लिखा साहित्य ही है। क्लिष्ट शब्दों का उपयोग, सामान्य बात को लच्छेदार वाक्य बनाकर कहना या बड़े लोगों पर ही व्यंग्य लिखना साहित्य नहीं होता। सहजता पूर्वक बिना लाग लपेटे के अपनी बात कहना भी उतना ही साहित्य होता है। शेष फिर कभी।
…………………………………..

यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘शब्दलेख सारथी’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
संकलक एवं संपादक-दीपक भारतदीप

Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

टिप्पणियाँ

  • दिनेशराय द्विवेदी  On फ़रवरी 26, 2011 at 19:55

    अच्छा आलेख!
    ब्लाग पर लिखे का मूल्यांकन भविष्य में करना ही होगा। वैसे भी साहित्य को नैट पर आना ही होगा। यदि उसे अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचना है.

  • Rakesh Singh - राकेश सिंह  On अगस्त 21, 2009 at 22:19

    इसमें कोई शक नहीं की हिंदी ब्लॉग जगत पे बहुत अच्छा लिखा जा रहा है | और इसका स्वागत भी हो रहा है | पर पुरे ब्लॉग जगत को साहित्य नहीं कहा जा सकता | कई ऐसे लेखक हैं जो बेहतरीन लिख रहे हैं , और वो साहित्य का अंग अवश्य है | पर ७०-८० % कूडा करकट ही है | अब देखिये मैंने अपना केबल कनेक्शन कटवाकर टाटा स्काई ले लिया और आ गए ब्लॉग पे लेख लेकर क्या ये साहित्य है ?ब्लॉग पे यदि किसी लेखक तो थोडी प्रशंशा मिल जाती है तो वो अपने आप को बड़ा लेखक समझने लगता है | फिर कुछ भी लिखने लगते हैं और उनके followers भी जी हजूरी करने लग जाते हैं | क्या एक लेखक इस अंहकार मैं रह कर अच्छी रचना कर सकता है ?

  • शरद कोकास  On अगस्त 21, 2009 at 03:41

    हाँ आपको अपने ब्लोग्स के लिंक देना तो भूल ही गया http://kavikokas.blogspot.com देख ले या बेहतर है गूगल सर्च से ढूँढ लें धन्यवाद

  • शरद कोकास  On अगस्त 21, 2009 at 03:29

    अभी कथादेश के मीडिया विशेषांक मे सुभाष धूलिया का लेख विभाजित समाज विखंडित मीडिया पढ़ रहा था उसीके तारतम्य मे आपका यह आलेख पढ़ा । वस्तुस्थिति यही है कि ब्लॉग मे लिखा साहित्य नही है इस बात को हवा वे ही दे रहे है जिन्हे इस माध्यम से खतरा महसूस हो रहा है । लेकिन इस बात को झुठलाने के लिये ब्लॉग लेखकों को निरंतर अच्छा साहित्य लिखना होगा । हाँलाकि सभी साहित्यिक पत्रिकाओं मे भी अच्छा साहित्य नही होता ( यहाँ अन्य पत्रिकाओ की बात मै नही कर रहा हूँ ) ब्लॉग एक माध्यम है और यहाँ लेखक ही सम्पादक है और लेखक ही आलोचक है । अत: इस बात का ध्यान रखना ज़रूरी है कि हम क्या प्रस्तुत करने जा रहे है । जो वरिष्ठ लेखक हैं उन्हे इस बात के लिये प्रेरित करना कि वे ब्लॉग मे लिखें, व्यर्थ है । और इससे कोई लाभ भी नही है । लेकिन युवा लेखक इस ओर आकृष्ट हो रहे है यह अच्छी बात है । हाँ इसके लिये मेहनत तो करनी होगी और तकनीकी ज्ञान भी प्राप्त करना होगा । मैने भी यही किया है । एक कविता संग्रह,पहलपुस्तिका मे लम्बी कविता "पुरातत्ववेत्ता" और देश की लगभग 50 साहित्यिक पत्रिकाओं में कविता समीक्षा आदि के प्रकाशन के बाद अभी 4 माह पूर्व ही मैं अंतर्जाल की इस दुनिया से जुड़ा हूँ ।और फिलहाल स्वयं के 5 ब्लॉग्स पर और 2 सामूहिक ब्लॉग्स पर निरंतर लिख रहा हूँ । पत्रिकाओं मे कविता भेजना भी जारी है । मित्रों को विश्वास नही होता क्योंकि 4 माह पूर्व न मेरे पास कम्प्यूटर था न मै टाइपिंग जानता था न मैने कोई ब्लॉग देखा था । मैने रात रात भर जाग कर और हिन्दी ब्लॉग टिप्स जैसे ब्लॉग पढ-कर यह ज्ञान प्राप्त किया । आप चाहें तो मेरा उदाहरण दे सकते हैं लेकिन निवेदन है कि पहले मेरे ब्लॉग्स देख लें ताकि आपको भी यकीन आ जाये । इस प्रयास में मै आपके साथ हूँ –शरद कोकास

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: